Nirvaan Babbar

(04/03/1975 / Delhi)

Poems of Nirvaan Babbar

1. I BELIEVE IN, WHAT I AM 1/19/2014
2. LIFE IS BEAUTIFUL 1/19/2014
3. O My Sweet Baby 1/19/2014
4. PEACE 1/19/2014
5. Somehow, We All Have Lost His (Almighty) Way, Actually The Right Way, 4/24/2014
6. THINK BEYOND HORIZON 1/19/2014
7. WHERE & WHEN 1/19/2014
8. अनंत अपार है दृष्टिकोण (ANANT APAAR HAI DRISHTIKON) 8/31/2013
9. अपने तो यहाँ मिलते ही नहीं (APNE TO YAHAN MILTE HI NAHI) 8/26/2013
10. अपने दिल की बात सुनले (Apne Dil Ki Baat Sunle) 9/2/2013
11. अपनी फितरत है (Apni Fitrat Hai) 1/23/2014
12. अब तो हृदय से विचार.... विचारों (AB TO HRIDAY SE VICHAAR VICHAARO) 8/17/2013
13. अभी नव संसार बसाना बाकी है (ABHI NAV SANSAAR BASAANA BAAKI HAI) 8/30/2013
14. आखिर प्यार क्या है (Akhir Pyar Kya Hai) 12/5/2013
15. आज ये विचार करें (AAJ YE VICHAAR KAREN) 8/29/2013
16. आज रात है बहुत ही भरी (AAJ RAAT HAI BAHUT HI BHAARI) 8/28/2013
17. आते जाते राहों मैं (Aate Jaate Raahon Main) 12/2/2013
18. आहात है अब हर मानव 10/20/2013
19. इश्क़ है. जो ख़ुदा जैसा है (Ishq Hai, Jo Khuda Jaisa Hai) 3/24/2014
20. ऐ मेरी ज़िन्दगी तू हसीं है बड़ी (AE MERI ZINDAGI TU HASIN HAI BADI) 9/4/2013

जज़्बात कई (ZAZBAAT KAI)

फिर इक दिन, बीत गया, सांझ की बेला, आई है,
थोड़ी ठंडक सी आई है, अब मौसम मैं, नभ पे, लालिमा सी छाई है,

धीरे - धीरे, अँधेरा अब, होने को है,
दिखाने को है आसमां अब, तारों की छवि,

रजनी के आने की, आहट अब राहों मैं है,
आसमां के पटल पर, चाँद का अक्स अब, दिखने को है,

[Hata Bildir]