Anoop Pandit

Rookie [Mamin] (01/01/1977 / Bulandshahr)

Do you like this poet?
0 person liked.
0 person did not like.

I am a teacher. more »

Click here to add this poet to your My Favorite Poets.

Comments about Anoop Pandit

more comments »
Click here to write your comments about Anoop Pandit
  • Rookie Arushi Goel (7/7/2013 12:12:00 PM)

    I feel proud to be here on dis page and read all ur epigrams on such important issues of our country! splendid work indeed! :)

  • Rookie Vishesh Chaturvedi (7/7/2013 10:52:00 AM)

    all poems are written from heart and they all are mindblowing

Read all 2 comments »
Famous Poets
Best Poem of Anoop Pandit

बाल श्रम

छोटे छोटे हाथों में बड़े बड़े बोझ
कूड़े के ढेर में रहे ज़िन्दगी खोज।

सुबह सवेरे निकल पड़ते है
ले हाथों में बस्ता
किताबें नहीं हैं उसमें, फिर भी
ढूंढें जीने का रस्ता
निभा रहे भूमिका गिद्ध की
मरते जीते रोज़
कूड़े के ढेर में रहे जिंदगी खोज।

ठेले पे हाथ बंटा बाप का
भूले बचपन अपना
तुम ही कहो क्या हो सकता है
उन आँखों का सपना
उन नन्हीं आँखों के सपने
हो रहे ज़मींदोज़
उस ठेले के चाकों में रहे ज़िन्दगी ...

Read the full of बाल श्रम

PoemHunter.com Updates

[Hata Bildir]