milap singh


Pratham Hindu Mahasangiti: Next Part


नही -नही- यह
गलत सलाह है
हमें किसी ओर ही
राह पे चलना होगा
अब हम इक्कसवी सदी में है
अब धीरे -धीरे
ये समाज ही बदलना होगा

नही छोड़ना है
हिन्दू धर्म को
नही थामना है किसी और धर्म को
बस धर्म के इस मिथ्या पक्ष को बदलना है
जो चुप -चाप प्रवेश कर गया था इसमें
इक विष, इक रोग बनकर
इस पुरातन -सनातन तन में
इस चिरंजीवी धर्म में

उस जाति -प्रथा को दूर करना है
इसका कोई ओर उपचार नही है
हमें
प्रथम हिन्दू महा संगीति के
पथ पर ही चलाना है

सुनहरी था हमारा आदिकाल
भविष्य भी हमारा भव्य ही होगा
अब वक्त आ गया है
इस कुरीति को दूर करने का
अब हर कोई यहाँ पर सभ्य होगा

बहुत झेला है अपमान
बहुत लुटाया है मान
बस किसी ने चुपके से शरारत कर के
छीन लिया था हमसे सम्मान

हम इस सब के अधिकारी नही थे
हमें बनाया गया था धोखे से
वास्तव में हम भीखारी नही थे
हमने भी जन्म लिया था
उसी रंग के खून से
उसी क्रिया से, उसी प्रक्रिया से
हमको भी भेजा था मालिक ने
मानव की जून में
पर यहाँ हम लोगों से धोखा हुआ था

कविता का अगला भाग आगे की पोस्ट में भेजूंगा

Submitted: Wednesday, September 04, 2013
Edited: Wednesday, September 04, 2013

Do you like this poem?
0 person liked.
0 person did not like.

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (Pratham Hindu Mahasangiti: Next Part by milap singh )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..

Trending Poets

Trending Poems

  1. Talking Turkeys!, Benjamin Zephaniah
  2. Stopping by Woods on a Snowy Evening, Robert Frost
  3. Stafford's Cabin, Edwin Arlington Robinson
  4. Still I Rise, Maya Angelou
  5. Invictus, William Ernest Henley
  6. The Road Not Taken, Robert Frost
  7. Daffodils, William Wordsworth
  8. If You Forget Me, Pablo Neruda
  9. Do Not Go Gentle Into That Good Night, Dylan Thomas

Poem of the Day

poet Richard Lovelace

Tell me not (Sweet) I am unkind,
That from the nunnery
Of thy chaste breast and quiet mind
To war and arms I fly.

True, a new mistress now I chase,
...... Read complete »

   

New Poems

  1. Let's Share, Peter S. Quinn
  2. Into Darkness, Suparnna Anilkumar
  3. Nature Is My Sanctuary, Peter S. Quinn
  4. Sometimes Mysteriously, Luis Omar Salinas
  5. The Winter Wind., Tony Adah
  6. Untouched Love, Edward Kofi Louis
  7. Early Death, Luo Zhihai
  8. Flying, Michael Webb
  9. Alone..., Luo Zhihai
  10. Soul in anguish, Wensislaus Mbirimi
[Hata Bildir]