Members Who Read Most Number Of Poems

Live Scores

Click here to see the rest of the list

(3 August 1886 – 12 December 1964 / Chirgaon, Uttar Pradesh / British India)

What do you think this poem is about?

For Example: love, art, fashion, friendship and etc.

जीवन की ही जय हो

मृषा मृत्यु का भय है
जीवन की ही जय है ।

जीव की जड़ जमा रहा है
नित नव वैभव कमा रहा है
यह आत्मा अक्षय है
जीवन की ही जय है।

नया जन्म ही जग पाता है
मरण मूढ़-सा रह जाता है
एक बीज सौ उपजाता है
सृष्टा बड़ा सदय है
जीवन की ही जय है।

जीवन पर सौ बार मरूँ मैं
क्या इस धन को गाड़ धरूँ मैं
यदि न उचित उपयोग करूँ मैं
तो फिर महाप्रलय है
जीवन की ही जय है।

Submitted: Thursday, April 05, 2012


Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (Nirakha Shakhi Ya Khanjan Aye by Maithili Sharan Gupt )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..
[Hata Bildir]