Learn More

Harivansh Rai Bachchan

(27 November 1907 – 18 January 2003 / Allahabad, Uttar Pradesh / British India)

अँधेरे का दीपक


है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

कल्पना के हाथ से कमनीय जो मंदिर बना था ,
भावना के हाथ से जिसमें वितानों को तना था,
स्वप्न ने अपने करों से था जिसे रुचि से सँवारा,
स्वर्ग के दुष्प्राप्य रंगों से, रसों से जो सना था,
ढह गया वह तो जुटाकर ईंट, पत्थर कंकड़ों को
एक अपनी शांति की कुटिया बनाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

बादलों के अश्रु से धोया गया नभनील नीलम
का बनाया था गया मधुपात्र मनमोहक, मनोरम,
प्रथम उशा की किरण की लालिमासी लाल मदिरा
थी उसी में चमचमाती नव घनों में चंचला सम,
वह अगर टूटा मिलाकर हाथ की दोनो हथेली,
एक निर्मल स्रोत से तृष्णा बुझाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

क्या घड़ी थी एक भी चिंता नहीं थी पास आई,
कालिमा तो दूर, छाया भी पलक पर थी न छाई,
आँख से मस्ती झपकती, बातसे मस्ती टपकती,
थी हँसी ऐसी जिसे सुन बादलों ने शर्म खाई,
वह गई तो ले गई उल्लास के आधार माना,
पर अथिरता पर समय की मुसकुराना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

हाय, वे उन्माद के झोंके कि जिसमें राग जागा,
वैभवों से फेर आँखें गान का वरदान माँगा,
एक अंतर से ध्वनित हो दूसरे में जो निरन्तर,
भर दिया अंबरअवनि को मत्तता के गीत गागा,
अन्त उनका हो गया तो मन बहलने के लिये ही,
ले अधूरी पंक्ति कोई गुनगुनाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

हाय वे साथी कि चुम्बक लौहसे जो पास आए,
पास क्या आए, हृदय के बीच ही गोया समाए,
दिन कटे ऐसे कि कोई तार वीणा के मिलाकर
एक मीठा और प्यारा ज़िन्दगी का गीत गाए,
वे गए तो सोचकर यह लौटने वाले नहीं वे,
खोज मन का मीत कोई लौ लगाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

क्या हवाएँ थीं कि उजड़ा प्यार का वह आशियाना,
कुछ न आया काम तेरा शोर करना, गुल मचाना,
नाश की उन शक्तियों के साथ चलता ज़ोर किसका,
किन्तु ऐ निर्माण के प्रतिनिधि, तुझे होगा बताना,
जो बसे हैं वे उजड़ते हैं प्रकृति के जड़ नियम से,
पर किसी उजड़े हुए को फिर बसाना कब मना है?
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

Submitted: Friday, April 06, 2012
Edited: Friday, April 06, 2012

Do you like this poem?
33 person liked.
11 person did not like.

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (अँधेरे का दीपक by Harivansh Rai Bachchan )

Enter the verification code :

  • Rookie Laxminarayan Hota (4/18/2014 3:34:00 AM)

    I am a fan of yours. You are the King of Poets.
    Actually Bachchan Rules...One in the world of Poems and thoughts one in Movies and Acting.

    Love you Both... (Report) Reply

Read all 3 comments »

Trending Poets

Trending Poems

  1. I Am the Only Being Whose Doom, Emily Jane Brontë
  2. If You Forget Me, Pablo Neruda
  3. The Road Not Taken, Robert Frost
  4. Loving is What Christmas is All About, Dorsey Baker
  5. A Smile To Remember, Charles Bukowski
  6. Good Riddance, Electric Lady
  7. Still I Rise, Maya Angelou
  8. I Know Why The Caged Bird Sings, Maya Angelou
  9. And Death Shall Have No Dominion, Dylan Thomas
  10. No Man Is An Island, John Donne

Poem of the Day

poet Emily Jane Brontë

I am the only being whose doom
No tongue would ask no eye would mourn
I never caused a thought of gloom
A smile of joy since I was born

In secret pleasure - secret tears
...... Read complete »

   

New Poems

  1. Night terrors, Ryan Brodesser
  2. River Ran Red, Kim Barney
  3. KRIG, Gunnar Mo.
  4. Sink the Dream Boat, Babbling Brookes
  5. AFFIRMATIONS, Christina Sunrise
  6. Good Riddance, Electric Lady
  7. Charlie Chaplin, Mark Heathcote
  8. Coming Home, Slim Jay
  9. 'Words', Katherine York
  10. Love, Baki Yigit
[Hata Bildir]