Ramdhari Singh Dinkar

(23 September 1908 – 24 April 1974 / Bihar / British India)

रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद


रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद,
आदमी भी क्या अनोखा जीव है ।
उलझनें अपनी बनाकर आप ही फँसता,
और फिर बेचैन हो जगता, न सोता है ।

जानता है तू कि मैं कितना पुराना हूँ?
मैं चुका हूँ देख मनु को जनमते-मरते ।
और लाखों बार तुझ-से पागलों को भी
चाँदनी में बैठ स्वप्नों पर सही करते।

आदमी का स्वप्न? है वह बुलबुला जल का
आज उठता और कल फिर फूट जाता है ।
किन्तु, फिर भी धन्य ठहरा आदमी ही तो
बुलबुलों से खेलता, कविता बनाता है ।

मैं न बोला किन्तु मेरी रागिनी बोली,
देख फिर से चाँद! मुझको जानता है तू?
स्वप्न मेरे बुलबुले हैं? है यही पानी,
आग को भी क्या नहीं पहचानता है तू?

मैं न वह जो स्वप्न पर केवल सही करते,
आग में उसको गला लोहा बनाता हूँ ।
और उस पर नींव रखता हूँ नये घर की,
इस तरह दीवार फौलादी उठाता हूँ ।

मनु नहीं, मनु-पुत्र है यह सामने, जिसकी
कल्पना की जीभ में भी धार होती है ।
वाण ही होते विचारों के नहीं केवल,
स्वप्न के भी हाथ में तलवार होती है।

स्वर्ग के सम्राट को जाकर खबर कर दे
रोज ही आकाश चढ़ते जा रहे हैं वे ।
रोकिये, जैसे बने इन स्वप्नवालों को,
स्वर्ग की ही ओर बढ़ते आ रहे हैं वे।

Submitted: Sunday, April 01, 2012
Edited: Monday, April 02, 2012

Form:


Do you like this poem?
12 person liked.
5 person did not like.

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद by Ramdhari Singh Dinkar )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..

Trending Poets

Trending Poems

  1. Still I Rise, Maya Angelou
  2. A Red, Red Rose, Robert Burns
  3. Address To A Haggis, Robert Burns
  4. The Road Not Taken, Robert Frost
  5. A Bottle And Friend, Robert Burns
  6. To A Mouse, Robert Burns
  7. A Winter Night, Robert Burns
  8. A Fond Kiss, Robert Burns
  9. Dreams, Langston Hughes
  10. I Know Why The Caged Bird Sings, Maya Angelou

Poem of the Day

poet Christopher Marlowe

It lies not in our power to love or hate,
For will in us is overruled by fate.
When two are stripped, long ere the course begin,
We wish that one should love, the other win;

...... Read complete »

   

Member Poem

New Poems

  1. my fears, Juwon Daniel
  2. feeling fearful, Juwon Daniel
  3. Destiny, Tom Zart
  4. Anthem For Black Lives To Matter, carol carter
  5. Animals Need Us, Naveed Akram
  6. No will, Angell Afinowi
  7. ak nayi subha, harshit madaan
  8. a good day to say goodbye, Juwon Daniel
  9. The Fall, Robert Kane
  10. THE AWAKENING, Chromium Blues
[Hata Bildir]