Jaishankar Prasad

(30 January 1889 – 14 January 1937 / Varanasi, Uttar Pradesh / India)

भारत महिमा


हिमालय के आँगन में उसे, प्रथम किरणों का दे उपहार ।
उषा ने हँस अभिनंदन किया, और पहनाया हीरक-हार ।।
जगे हम, लगे जगाने विश्व, लोक में फैला फिर आलोक ।
व्योम-तुम पुँज हुआ तब नाश, अखिल संसृति हो उठी अशोक ।।
विमल वाणी ने वीणा ली, कमल कोमल कर में सप्रीत ।
सप्तस्वर सप्तसिंधु में उठे, छिड़ा तब मधुर साम-संगीत ।।
बचाकर बीच रूप से सृष्टि, नाव पर झेल प्रलय का शीत ।
अरुण-केतन लेकर निज हाथ, वरुण-पथ में हम बढ़े अभीत ।।
सुना है वह दधीचि का त्याग, हमारी जातीयता का विकास ।
पुरंदर ने पवि से है लिखा, अस्थि-युग का मेरा इतिहास ।।
सिंधु-सा विस्तृत और अथाह, एक निर्वासित का उत्साह ।
दे रही अभी दिखाई भग्न, मग्न रत्नाकर में वह राह ।।


धर्म का ले लेकर जो नाम, हुआ करती बलि कर दी बंद ।
हमीं ने दिया शांति-संदेश, सुखी होते देकर आनंद ।।
विजय केवल लोहे की नहीं, धर्म की रही धरा पर धूम ।
भिक्षु होकर रहते सम्राट, दया दिखलाते घर-घर घूम ।
यवन को दिया दया का दान, चीन को मिली धर्म की दृष्टि ।
मिला था स्वर्ण-भूमि को रत्न, शील की सिंहल को भी सृष्टि ।।
किसी का हमने छीना नहीं, प्रकृति का रहा पालना यहीं ।
हमारी जन्मभूमि थी यहीं, कहीं से हम आए थे नहीं ।।
जातियों का उत्थान-पतन, आँधियाँ, झड़ी, प्रचंड समीर ।
खड़े देखा, झेला हँसते, प्रलय में पले हुए हम वीर ।।
चरित थे पूत, भुजा में शक्ति, नम्रता रही सदा संपन्न ।
हृदय के गौरव में था गर्व, किसी को देख न सके विपन्न ।।
हमारे संचय में था दान, अतिथि थे सदा हमारे देव ।
वचन में सत्य, हृदय में तेज, प्रतिज्ञा मे रहती थी टेव ।।
वही है रक्त, वही है देश, वही साहस है, वैसा ज्ञान ।
वही है शांति, वही है शक्ति, वही हम दिव्य आर्य-संतान ।।
जियें तो सदा इसी के लिए, यही अभिमान रहे यह हर्ष ।
निछावर कर दें हम सर्वस्व, हमारा प्यारा भारतवर्ष ।।

Submitted: Thursday, April 05, 2012
Edited: Thursday, April 05, 2012

Do you like this poem?
14 person liked.
5 person did not like.

What do you think this poem is about?



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (भारत महिमा by Jaishankar Prasad )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..

PoemHunter.com Updates

New Poems

  1. Passages of Time, Phil Soar
  2. चाँद रात में सैर, Rajnish Manga
  3. चाँद रात में सैर, Rajnish Manga
  4. Listening To Music, RoseAnn V. Shawiak
  5. You Are, Phil Soar
  6. Racing In A Yellow Cab, RoseAnn V. Shawiak
  7. Moonlight Walks, Rajnish Manga
  8. Today, SALINI NAIR
  9. A Deep Knowing Inside, RoseAnn V. Shawiak
  10. People Are Crazy, Phil Soar

Poem of the Day

I

Our life is twofold; Sleep hath its own world,
A boundary between the things misnamed
Death and existence: Sleep hath its own world,
And a wide realm of wild reality,
...... Read complete »

 

Modern Poem

poet May Swenson

 

Member Poem

Trending Poems

  1. The Road Not Taken, Robert Frost
  2. Stopping by Woods on a Snowy Evening, Robert Frost
  3. Daffodils, William Wordsworth
  4. I Know Why The Caged Bird Sings, Maya Angelou
  5. Phenomenal Woman, Maya Angelou
  6. All the World's a Stage, William Shakespeare
  7. Do Not Go Gentle Into That Good Night, Dylan Thomas
  8. The Raven, Edgar Allan Poe
  9. Still I Rise, Maya Angelou
  10. Tonight I can write the saddest lines, Pablo Neruda

Trending Poets

[Hata Bildir]