Learn More

Suryakant Tripathi 'Nirala'

(21 February 1896 – 15 October 1961 / Midnapore, West Bengal / British India)

संध्या सुन्दरी


दिवसावसान का समय -
मेघमय आसमान से उतर रही है
वह संध्या-सुन्दरी, परी सी,
धीरे, धीरे, धीरे,
तिमिरांचल में चंचलता का नहीं कहीं आभास,
मधुर-मधुर हैं दोनों उसके अधर,
किंतु ज़रा गंभीर, नहीं है उसमें हास-विलास।
हँसता है तो केवल तारा एक -
गुँथा हुआ उन घुँघराले काले-काले बालों से,
हृदय राज्य की रानी का वह करता है अभिषेक।
अलसता की-सी लता,
किंतु कोमलता की वह कली,
सखी-नीरवता के कंधे पर डाले बाँह,
छाँह सी अम्बर-पथ से चली।
नहीं बजती उसके हाथ में कोई वीणा,
नहीं होता कोई अनुराग-राग-आलाप,
नूपुरों में भी रुन-झुन रुन-झुन नहीं,
सिर्फ़ एक अव्यक्त शब्द-सा 'चुप चुप चुप'
है गूँज रहा सब कहीं -
व्योम मंडल में, जगतीजल में -
सोती शान्त सरोवर पर उस अमल कमलिनी-दल में -
सौंदर्य-गर्विता-सरिता के अति विस्तृत वक्षस्थल में -
धीर-वीर गम्भीर शिखर पर हिमगिरि-अटल-अचल में -
उत्ताल तरंगाघात-प्रलय घनगर्जन-जलधि-प्रबल में -
क्षिति में जल में नभ में अनिल-अनल में -
सिर्फ़ एक अव्यक्त शब्द-सा 'चुप चुप चुप'
है गूँज रहा सब कहीं -
और क्या है? कुछ नहीं।
मदिरा की वह नदी बहाती आती,
थके हुए जीवों को वह सस्नेह,
प्याला एक पिलाती।
सुलाती उन्हें अंक पर अपने,
दिखलाती फिर विस्मृति के वह अगणित मीठे सपने।
अर्द्धरात्री की निश्चलता में हो जाती जब लीन,
कवि का बढ़ जाता अनुराग,
विरहाकुल कमनीय कंठ से,
आप निकल पड़ता तब एक विहाग!

Submitted: Sunday, April 01, 2012

Do you like this poem?
5 person liked.
0 person did not like.

What do you think this poem is about?



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (संध्या सुन्दरी by Suryakant Tripathi 'Nirala' )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..

New Poems

  1. Elli's Whisper (A Bird's FairyTale), Kewayne Wadley
  2. Wild Flower, Bernard Snyder
  3. Can't Cuddle Now, Lawrence Beck
  4. That City, Waltz For Zizi
  5. Heart and Soul, Arthur Carman
  6. Are You Real?, Noah Body
  7. My Life, Arthur Carman
  8. Chunk for Whom?, kassem oude
  9. Letter to Kitty, Arthur Carman
  10. i miss you like i miss you like,, Mandolyn ...

Poem of the Day

poet Percy Bysshe Shelley

Men of England, wherefore plough
For the lords who lay ye low?
Wherefore weave with toil and care
The rich robes your tyrants wear?

Wherefore feed and clothe and save,
...... Read complete »

 

Modern Poem

poet Audre Lorde

 

Member Poem

Trending Poems

  1. 04 Tongues Made Of Glass, Shaun Shane
  2. Still I Rise, Maya Angelou
  3. The Road Not Taken, Robert Frost
  4. Fire and Ice, Robert Frost
  5. Invictus, William Ernest Henley
  6. I Know Why The Caged Bird Sings, Maya Angelou
  7. Annabel Lee, Edgar Allan Poe
  8. Phenomenal Woman, Maya Angelou
  9. Dreams, Langston Hughes
  10. I Do Not Love You Except Because I Love .., Pablo Neruda

Trending Poets

[Hata Bildir]