Learn More

Harivansh Rai Bachchan

(27 November 1907 – 18 January 2003 / Allahabad, Uttar Pradesh / British India)

पथ की पहचान


पूर्व चलने के बटोही बाट की पहचान कर ले।

पुस्तकों में है नहीं
छापी गई इसकी कहानी
हाल इसका ज्ञात होता
है न औरों की जबानी

अनगिनत राही गए
इस राह से उनका पता क्या
पर गए कुछ लोग इस पर
छोड़ पैरों की निशानी

यह निशानी मूक होकर
भी बहुत कुछ बोलती है
खोल इसका अर्थ पंथी
पंथ का अनुमान कर ले।

पूर्व चलने के बटोही बाट की पहचान कर ले।

यह बुरा है या कि अच्छा
व्यर्थ दिन इस पर बिताना
अब असंभव छोड़ यह पथ
दूसरे पर पग बढ़ाना

तू इसे अच्छा समझ
यात्रा सरल इससे बनेगी
सोच मत केवल तुझे ही
यह पड़ा मन में बिठाना

हर सफल पंथी यही
विश्वास ले इस पर बढ़ा है
तू इसी पर आज अपने
चित्त का अवधान कर ले।

पूर्व चलने के बटोही बाट की पहचान कर ले।

है अनिश्चित किस जगह पर
सरित गिरि गह्वर मिलेंगे
है अनिश्चित किस जगह पर
बाग वन सुंदर मिलेंगे

किस जगह यात्रा खतम हो
जाएगी यह भी अनिश्चित
है अनिश्चित कब सुमन कब
कंटकों के शर मिलेंगे

कौन सहसा छू जाएँगे
मिलेंगे कौन सहसा
आ पड़े कुछ भी रुकेगा
तू न ऐसी आन कर ले।

पूर्व चलने के बटोही बाट की पहचान कर ले।

Submitted: Friday, April 06, 2012
Edited: Friday, April 06, 2012

Do you like this poem?
29 person liked.
1 person did not like.

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (पथ की पहचान by Harivansh Rai Bachchan )

Enter the verification code :

Read all 1 comments »

Trending Poets

Trending Poems

  1. Daffodils, William Wordsworth
  2. The Saddest Poem, Pablo Neruda
  3. Do Not Go Gentle Into That Good Night, Dylan Thomas
  4. If You Forget Me, Pablo Neruda
  5. A Life-Lesson, James Whitcomb Riley
  6. The Road Not Taken, Robert Frost
  7. Fire and Ice, Robert Frost
  8. Still I Rise, Maya Angelou
  9. If, Rudyard Kipling
  10. Invictus, William Ernest Henley

Poem of the Day

poet James Whitcomb Riley

There! little girl; don't cry!
They have broken your doll, I know;
And your tea-set blue,
And your play-house, too,
Are things of the long ago;
...... Read complete »

   

New Poems

  1. The River! The River!, Frank James Ryan Jr...FjR
  2. Of Respect To The Rose...(r), Frank James Ryan Jr...FjR
  3. Of The Nurturing..., Frank James Ryan Jr...FjR
  4. CIX EL SYD {meop citsorca na}, Frank James Ryan Jr...FjR
  5. not Again, Never Again, Adebayo Caleb
  6. The Problem With Our World in 10 Words, .., Frank James Ryan Jr...FjR
  7. By His Love, Paul Sebastian
  8. THIS CREEPY HALLOWEEN.........., Ritusmera Mundakkal
  9. The saplings of trees., Gangadharan nair Pulingat..
  10. TO THE LARK DESCENDING, mary douglas
[Hata Bildir]