Treasure Island

Harivansh Rai Bachchan

(27 November 1907 – 18 January 2003 / Allahabad, Uttar Pradesh / British India)

जुगनू


अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

उठी ऐसी घटा नभ में
छिपे सब चांद औ' तारे,
उठा तूफान वह नभ में
गए बुझ दीप भी सारे,
मगर इस रात में भी लौ लगाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

गगन में गर्व से उठउठ,
गगन में गर्व से घिरघिर,
गरज कहती घटाएँ हैं,
नहीं होगा उजाला फिर,
मगर चिर ज्योति में निष्ठा जमाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

तिमिर के राज का ऐसा
कठिन आतंक छाया है,
उठा जो शीश सकते थे
उन्होनें सिर झुकाया है,
मगर विद्रोह की ज्वाला जलाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

प्रलय का सब समां बांधे
प्रलय की रात है छाई,
विनाशक शक्तियों की इस
तिमिर के बीच बन आई,
मगर निर्माण में आशा दृढ़ाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

प्रभंजन, मेघ दामिनी ने
न क्या तोड़ा, न क्या फोड़ा,
धरा के और नभ के बीच
कुछ साबित नहीं छोड़ा,
मगर विश्वास को अपने बचाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

प्रलय की रात में सोचे
प्रणय की बात क्या कोई,
मगर पड़ प्रेम बंधन में
समझ किसने नहीं खोई,
किसी के पथ में पलकें बिछाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

Submitted: Friday, April 06, 2012
Edited: Friday, April 06, 2012

Do you like this poem?
9 person liked.
2 person did not like.

What do you think this poem is about?



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (जुगनू by Harivansh Rai Bachchan )

Enter the verification code :

Read all 2 comments »

PoemHunter.com Updates

New Poems

  1. The ragged men of Indian English poetry, Bijay Kant Dubey
  2. Thoughts, nicholle gibson
  3. PH: Sin: The Wages Of Sin, Brian Johnston
  4. Ideals Envisioned, Lawrence S. Pertillar
  5. America Radicalized, Is It Poetry
  6. Just before Midnight, Frank Avon
  7. I and I, Daniel Erdner
  8. Love: Don't Bargain, Aftab Alam
  9. War is lust and Peace is Love,, Aftab Alam
  10. Endless game, hasmukh amathalal

Poem of the Day

poet Henry Vaughan

They are all gone into the world of light!
And I alone sit ling'ring here;
Their very memory is fair and bright,
And my sad thoughts doth clear.

...... Read complete »

   

Trending Poems

  1. 04 Tongues Made Of Glass, Shaun Shane
  2. The Road Not Taken, Robert Frost
  3. Still I Rise, Maya Angelou
  4. Annabel Lee, Edgar Allan Poe
  5. If, Rudyard Kipling
  6. If You Forget Me, Pablo Neruda
  7. Daffodils, William Wordsworth
  8. Where The Mind Is Without Fear, Rabindranath Tagore
  9. Phenomenal Woman, Maya Angelou
  10. Dreams, Langston Hughes

Trending Poets

[Hata Bildir]