Harivansh Rai Bachchan

(27 November 1907 – 18 January 2003 / Allahabad, Uttar Pradesh / British India)

जुगनू


अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

उठी ऐसी घटा नभ में
छिपे सब चांद औ' तारे,
उठा तूफान वह नभ में
गए बुझ दीप भी सारे,
मगर इस रात में भी लौ लगाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

गगन में गर्व से उठउठ,
गगन में गर्व से घिरघिर,
गरज कहती घटाएँ हैं,
नहीं होगा उजाला फिर,
मगर चिर ज्योति में निष्ठा जमाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

तिमिर के राज का ऐसा
कठिन आतंक छाया है,
उठा जो शीश सकते थे
उन्होनें सिर झुकाया है,
मगर विद्रोह की ज्वाला जलाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

प्रलय का सब समां बांधे
प्रलय की रात है छाई,
विनाशक शक्तियों की इस
तिमिर के बीच बन आई,
मगर निर्माण में आशा दृढ़ाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

प्रभंजन, मेघ दामिनी ने
न क्या तोड़ा, न क्या फोड़ा,
धरा के और नभ के बीच
कुछ साबित नहीं छोड़ा,
मगर विश्वास को अपने बचाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

प्रलय की रात में सोचे
प्रणय की बात क्या कोई,
मगर पड़ प्रेम बंधन में
समझ किसने नहीं खोई,
किसी के पथ में पलकें बिछाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

Submitted: Friday, April 06, 2012
Edited: Friday, April 06, 2012

Form:


Do you like this poem?
43 person liked.
9 person did not like.

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (जुगनू by Harivansh Rai Bachchan )

Enter the verification code :

  • Veteran Poet - 2,927 Points Pintu Mahakul (12/21/2014 2:58:00 PM)

    Although many feel that further light will not appear in sky or in the dark but still it appears and disappears. Who ever thinks about life during the darkness of danger and destruction. Only light realizes while it does spark in Jugnoo. Wonderful and beautiful poem by Bachchan saab ji. (Report) Reply

Read all 3 comments »

Trending Poets

Trending Poems

  1. Dreams, Langston Hughes
  2. As I Grew Older, Langston Hughes
  3. Mother to Son, Langston Hughes
  4. I Dream A World, Langston Hughes
  5. The Road Not Taken, Robert Frost
  6. Still I Rise, Maya Angelou
  7. Let America be America Again, Langston Hughes
  8. April Rain Song, Langston Hughes
  9. I, Too, Langston Hughes
  10. Life Is Fine, Langston Hughes

Poem of the Day

THE CHANCELLOR mused as he nibbled his pen
(Sure no Minister ever looked wiser),
And said, “I can summon a million of men
To fight for their country and Kaiser;

...... Read complete »

   

Member Poem

New Poems

  1. Walking home Afterwards, Angell Afinowi
  2. Who has killed me brutally?, Aftab Alam
  3. Granny, Phil Soar
  4. Dances, David Harris
  5. Life, Vaishnavi Singh
  6. God, Asit Kumar Sanyal
  7. Apatnaput-apat (44), herbert guitang
  8. Schoon Poepske, Madrason writer
  9. Your Heart To Mine, Michael P. McParland
  10. Motivation, Kim Lee
[Hata Bildir]