Members Who Read Most Number Of Poems

Live Scores

Click here to see the rest of the list

(03 feb.1981 / VPO. Banawali Teh/distt. Fatehabad (Haryana))

What do you think this poem is about?

For Example: love, art, fashion, friendship and etc.

खिलने दें

आओ दिल से दिल मिला कर देंखे, रुखसारो को खिलने दें !
चलो चाँद को जमीं पर लायें और उन सितारों को खिलने दें!
तितलियों के पीछे भागे, भंवरों सा हम गुनगुनाये -
आओ सावन को बुला के लाये और बहारो को खिलने दें!
आईना लेकर निहारे जिन्दगी तन्हाई के किसी कोने में -
खुशियों में समेटे गम को, बस हंसी -फुहारों को खिलने दें!
मोहब्बत की तालीम सीखे मिल कर, लफ्जों को इतना इल्म दें -
मंदिर-मस्जिद घर में बना कर, घर की दीवारों को खिलने दें!
सागर किनारे बैठे दो पल, यादों संग खूब बतियाते हैं -
आओ 'अजनबी' हम करें दोस्ती, छिछोरेपन के नजारो को खिलने दें! !
चलो चाँद को जमीं पर लायें और उन सितारों को खिलने दें!

Submitted: Wednesday, May 08, 2013
Edited: Tuesday, September 17, 2013


Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Poet's Notes about The Poem

Gazal

Comments about this poem (खिलने दें by Alfaz Ajnabi )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..
[Hata Bildir]